अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला /निदा फ़ाज़ली

अब ख़ुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला हम ने अपना लिया हर रंग ज़माने वाला एक बे-चेहरा सी उम्मीद है चेहरा चेहरा जिस तरफ़ देखिए आने को है आने वाला उस को रुख़्सत तो किया था मुझे मालूम न था सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला दूर के चाँद को ढूँडो…

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया/निदा फ़ाज़ली

आज ज़रा फ़ुर्सत पाई थी आज उसे फिर याद किया बंद गली के आख़िरी घर को खोल के फिर आबाद किया खोल के खिड़की चाँद हँसा फिर चाँद ने दोनों हाथों से रंग उड़ाए फूल खिलाए चिड़ियों को आज़ाद किया बड़े बड़े ग़म खड़े हुए थे रस्ता रोके राहों में छोटी छोटी ख़ुशियों से ही…

आनी जानी हर मोहब्बत है चलो यूँ ही सही/निदा फ़ाज़ली

आनी जानी हर मोहब्बत है चलो यूँ ही सही जब तलक है ख़ूब-सूरत है चलो यूँ ही सही हम कहाँ के देवता हैं बेवफ़ा वो हैं तो क्या घर में कोई घर की ज़ीनत है चलो यूँ ही सही वो नहीं तो कोई तो होगा कहीं उस की तरह जिस्म में जब तक हरारत है…

अपना ग़म ले के कहीं और न जाया जाए/निदा फ़ाज़ली

अपना ग़म ले के कहीं और न जाया जाए घर में बिखरी हुई चीज़ों को सजाया जाए जिन चराग़ों को हवाओं का कोई ख़ौफ़ नहीं उन चराग़ों को हवाओं से बचाया जाए ख़ुद-कुशी करने की हिम्मत नहीं होती सब में और कुछ दिन अभी औरों को सताया जाए बाग़ में जाने के आदाब हुआ करते…

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता/निदा फ़ाज़ली

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता तमाम शहर में ऐसा नहीं ख़ुलूस न हो जहाँ उमीद हो इस की वहाँ नहीं मिलता कहाँ चराग़ जलाएँ कहाँ गुलाब रखें छतें तो मिलती हैं लेकिन मकाँ नहीं मिलता ये क्या अज़ाब है सब अपने आप में गुम हैं ज़बाँ मिली…

एक ही धरती हम सब का घर जितना तेरा उतना मेरा/निदा फ़ाज़ली

एक ही धरती हम सब का घर जितना तेरा उतना मेरा दुख सुख का ये जंतर-मंतर जितना तेरा उतना मेरा गेहूँ चावल बाँटने वाले झूटा तौलें तो क्या बोलें यूँ तो सब कुछ अंदर बाहर जितना तेरा उतना मेरा हर जीवन की वही विरासत आँसू सपना चाहत मेहनत साँसों का हर बोझ बराबर जितना तेरा…

आनी जानी हर मोहब्बत है चलो यूँ ही सही/निदा फ़ाज़ली

आनी जानी हर मोहब्बत है चलो यूँ ही सही जब तलक है ख़ूब-सूरत है चलो यूँ ही सही हम कहाँ के देवता हैं बेवफ़ा वो हैं तो क्या घर में कोई घर की ज़ीनत है चलो यूँ ही सही वो नहीं तो कोई तो होगा कहीं उस की तरह जिस्म में जब तक हरारत है…

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा/निदा फ़ाज़ली

उस के दुश्मन हैं बहुत आदमी अच्छा होगा वो भी मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा इतना सच बोल कि होंटों का तबस्सुम न बुझे रौशनी ख़त्म न कर आगे अंधेरा होगा प्यास जिस नहर से टकराई वो बंजर निकली जिस को पीछे कहीं छोड़ आए वो दरिया होगा मिरे बारे में कोई राय…

कोई नहीं है आने वाला फिर भी कोई आने को है/निदा फ़ाज़ली

कोई नहीं है आने वाला फिर भी कोई आने को है आते जाते रात और दिन में कुछ तो जी बहलाने को है चलो यहाँ से अपनी अपनी शाख़ों पे लौट आए परिंदे भूली-बिसरी यादों को फिर तन्हाई दोहराने को है दो दरवाज़े एक हवेली आमद रुख़्सत एक पहेली कोई जा कर आने को है…

गरज बरस प्यासी धरती फिर पानी दे मौला/निदा फ़ाज़ली

गरज-बरस प्यासी धरती पर फिर पानी दे मौला चिड़ियों को दाने बच्चों को गुड़-धानी दे मौला दो और दो का जोड़ हमेशा चार कहाँ होता है सोच समझ वालों को थोड़ी नादानी दे मौला फिर रौशन कर ज़हर का प्याला चमका नई सलीबें झूटों की दुनिया में सच को ताबानी दे मौला फिर मूरत से…

कोशिश के बावजूद ये इल्ज़ाम रह गया/निदा फ़ाज़ली

कोशिश के बावजूद ये इल्ज़ाम रह गया हर काम में हमेशा कोई काम रह गया छोटी थी उम्र और फ़साना तवील था आग़ाज़ ही लिखा गया अंजाम रह गया उठ उठ के मस्जिदों से नमाज़ी चले गए दहशत-गर्दों के हाथ में इस्लाम रह गया उस का क़ुसूर ये था बहुत सोचता था वो वो कामयाब…

कभी कभी यूँ भी हम ने अपने जी को बहलाया है/निदा फ़ाज़ली

कभी कभी यूँ भी हम ने अपने जी को बहलाया है जिन बातों को ख़ुद नहीं समझे औरों को समझाया है हम से पूछो इज़्ज़त वालों की इज़्ज़त का हाल कभी हम ने भी इक शहर में रह कर थोड़ा नाम कमाया है उस को भूले बरसों गुज़रे लेकिन आज न जाने क्यूँ आँगन में…