अच्छा है उन से कोई तक़ाज़ा किया न जाए / जाँ निसार अख़्तर

अच्छा है उन से कोई तक़ाज़ा किया न जाए
अपनी नज़र में आप को रुसवा किया न जाए

हम हैं तेरा ख़याल है तेरा जमाल है
इक पल भी अपने-आप को तन्हा किया न जाए

उठने को उठ तो जाएँ तेरी अंजुमन से हम
पर तेरी अंजुमन को भी सूना किया न जाए

उनकी रविश जुदा है हमारी रविश जुदा
हमसे तो हर बात पे झगड़ा किया न जाए

हर-चंद ए’तिबार में धोखे भी है मगर
ये तो नहीं किसी पे भरोसा किया न जाए

लहजा बना के बात करें उनके सामने
हमसे तो इस तरह का तमाशा किया न जाए

इनाम हो ख़िताब हो वैसे मिले कहाँ
जब तक सिफारिशों को इकट्ठा किया न जाए

हर वक़्त हमसे पूछ न ग़म रोज़गार के
हम से हर घूँट को कड़वा किया न जाए

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s