पैटर्न / केदारनाथ अग्रवाल

‘पैटर्न’
वही है
पैसेवाला
ब्याह हो या चुनाव।

पैसे के
अभाव में
न ब्याह हुआ अच्छा
न चुनाव।

बड़ा बोलबाला है
पैसे ही पैसे का
घर और देश में।

पैसे पर टिका टिका
पैसे का प्रजातंत्र
जगह-जगह जीता है–
सिर धुनता
धुआँ-धुआँ पीता है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s