फैला दिए खुद हाथ तलबगार के आगे / परवीन शाकिर

फैला दिए खुद हाथ तलबगार के आगे
देखा नहीं कुछ हमें खरीदार के आगे

फिर शाम हुई और बढ़ा नाखून ए उम्मीद
फिर सुबह हुई और हम उसी दीवार के आगे

शहजादे मिरी नींद को तू काट रहा है
ठहरा न ये जंगल तिरी तलवार के आगे

क्या जाँ के खसारे की तमन्ना हो कि अब इश्क़
बढ़ता ही नहीं दरहम ओ दीनार के आगे

इनकार की लज्जत में जो सरशार रहे हैं
कब टूट सके हैं रसन ए दार के आगे

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s