रिश्ते की खोज / सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

मैंने तुम्हारे दुख से अपने को जोड़ा
और –
और अकेला हो गया ।
मैंने तुम्हारे सुख से
अपने को जोड़ा
और –
और छोटा हो गया ।
मैंने सुख-दुख से परे
अपने को तुम से जोड़ा
और –
और अर्थहीन हो गया ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s