अब शौक़ से कि जाँ से गुज़र जाना चाहिए/अहमद फ़राज़

अब शौक़ से कि जाँ से गुज़र जाना चाहिए
बोल ऐ हवा-ए-शहर किधर जाना चाहिए
कब तक इसी को आख़िरी मंज़िल कहेंगे हम
कू-ए-मुराद से भी उधर जाना चाहिए
वो वक़्त आ गया है कि साहिल को छोड़ कर
गहरे समुंदरों में उतर जाना चाहिए
अब रफ़्तगाँ की बात नहीं कारवाँ की है
जिस सम्त भी हो गर्द-ए-सफ़र जाना चाहिए
कुछ तो सुबूत-ए-ख़ून-ए-तमन्ना कहीं मिले
है दिल तही तो आँख को भर जाना चाहिए
या अपनी ख़्वाहिशों को मुक़द्दस न जानते
या ख़्वाहिशों के साथ ही मर जाना चाहिए

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s