किस झुटपुटे के रंग उजालों में आ गए/अहमद मुश्ताक़

किस झुटपुटे के रंग उजालों में आ गए
टुकड़े शफ़क़ के धूप से गालों में आ गए

अफ़्सुर्दगी की लय भी तिरे क़हक़हों में थी
पतझड़ के सर बहार के झालों में आ गए

उड़ कर कहाँ कहाँ से परिंदों के क़ाफ़िले
नादीदा पानियों के ख़यालों में आ गए

हुस्न तमाम थे तो कोई देखता न था
तुम दर्द बन के देखने वालों में आ गए

काँटे समझ के घास पे चलता रहा हूँ मैं
क़तरे तमाम ओस के छालों में आ गए

कुछ रत-जगे थे जिन की ज़रूरत नहीं रही
कुछ ख़्वाब थे जो मेरे ख़यालों में आ गए

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s