कैसे उन्हें भुलाऊँ मोहब्बत जिन्हों ने की /अहमद मुश्ताक़

कैसे उन्हें भुलाऊँ मोहब्बत जिन्हों ने की
मुझ को तो वो भी याद हैं नफ़रत जिन्हों ने की

दुनिया में एहतिराम के क़ाबिल वो लोग हैं
ऐ ज़िल्लत-ए-वफ़ा तिरी इज़्ज़त जिन्हों ने की

तज़ईन-ए-काएनात का बाइस वही बने
दुनिया से इख़्तिलाफ़ की जुरअत जिन्हों ने की

आसूदगान-ए-मंजि़ल-ए-लैला उदास हैं
अच्छे रहे न तय ये मसाफ़त जिन्हों ने की

अहल-ए-हवस तो ख़ैर हवस में हुए ज़लील
वो भी हुए ख़राब, मोहब्बत जिन्हों ने की

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s