जब तेरा हुक्म मिला / अहमद नदीम क़ासमी

जब तेरा हुक्म मिला, तर्क मुहब्बत कर दी,
दिल मगर उस पे वो धडका, कि क़यामत कर दी|

तुझसे किस तरह मैं इज़हार-ए-तमन्ना करता,
लफ़्ज़ सूझा तो मआनी ने बग़ावत कर दी|

मैं तो समझा था कि लौट आते हैं जाने वाले,
तूने जाकर तो जुदाई मेरी कि़स्मत कर दी|

मुझको दुश्मन के वादों पे भी प्यार आता है,
तेरी उल्फ़त ने मुहब्बत मेरी आदत कर दी|

पूछ बैठा हूँ, मैं तुझसे तेरे कूचे का पता,
तेरी हालत ने कैसी तेरी सूरत कर दी|

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s