दबी हुई है मेरे लबों में कहीं / अली सरदार जाफ़री

दबी हुई है मेरे लबों में कहीं पे वो आह भी जो अब तक
न शोला बन के भड़क सकी है न अश्क-ए-बेसूद बन के निकली

घुटी हुई है नफ़स की हद में जला दिया जो जला सकी है
न शमा बन कर पिघल सकी है न आज तक दूध बन के निकली

दिया है बेशक मेरी नज़र को वो परतौ जो दर्द बख़्शे
न मुझ पर ग़ालिब ही आ सकी है न मेरा मस्जूद बन के निकली

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s