शाम को सुबह-ए-चमन याद आई / अहमद नदीम क़ासमी

शाम को सुबह-ए-चमन याद आई,
किसकी ख़ुश्बू-ए-बदन याद आई|

जब ख़यालों में कोई मोड़ आया,
तेरे गेसू की शिकन याद आई|

याद आए तेरे पैकर के ख़ुतूत,
अपनी कोताही-ए-फ़न याद आई|

चांद जब दूर उफ़क़ पर डूबा,
तेरे लहजे की थकन याद आई|

दिन शुआओं से उलझते गुज़रा,
रात आई तो किरन याद आई|

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s