ये जो फैला हुआ ज़माना है/निदा फ़ाज़ली

ये जो फैला हुआ ज़माना है
इस का रक़्बा ग़रीब-ख़ाना है
(रक़्बा-क्षेत्र)
कोई मंज़र सदा नहीं रहता
हर तअल्लुक़ मुसाफ़िराना है

देस परदेस क्या परिंदों का
आब ओ दाना ही आशियाना है

कैसी मस्जिद कहाँ का बुत-ख़ाना
हर जगह उस का आस्ताना है

इश्क़ की उम्र कम ही होती है
बाक़ी जो कुछ है दोस्ताना है

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s